Sunday, October 9, 2011

कता

मैने एक खिलौना देखा,
चेहरा एक सलौना देखा।
आसमान को छूना चाहे ,
ऐसा भी एक बौना देखा।

1 comment: