Friday, January 29, 2010

कृपया बतांए सही क्या है


क्या क्रोंच पछी एवं
सारस एक ही है
जिंदगी में मुझे पहली बार सारस देखने को मिलें। आदमी के बराबर का पछी देखकर आश्चर्य हुआं। एक जोडे के साथ दो बच्चे भी थे: रूक कर कुछ फोटीं खींचे। नेट पर पक्षी के बारे में जानकारी खोजनी शुरू कीं । कुछ जगह मिला कि क्रोच एवं सारस एक ही पक्षी है। क्रोंच पक्षी के बारे में आता है कि उसके मैथुनरत जोडे से शिकारी द्वारा नर को मार दिए जाने के बाद मादा की चित्कार को सुन महर्षि वाल्मीकि द्वारा जो पंक्ति कहीं गई, वह पहली कविता हुई। हालाकि सारस के बारे में भी यह आता है कि जोडे में से एक के मरने पर दूसरा उसी जगह खडा चीखता रहता हैं, उस जगह से नही जाता एवं वहीं प्राण दे देता हैं। किंतु कुछ जानकार कहते है कि क्रोंच अलग प्रजाति हैं। कृपया मेरी जानकारी में वृद्धि को बताएं कि सही क्या है!

2 comments:

दीपक 'मशाल' said...

ये सवाल तो मेरे भी मन में है जाने कब से क्योंकि मेरे नगर का नाम कोंच इसीलिए पड़ा कि वैदिक काल में वहां क्रोंच पक्षियों का बड़ा जमावड़ा रहता था, कहते हैं सारस जैसी इस प्रजाति का नाम महर्षि कुंच के नाम पर रखा गया जिनकी तपोभूमि भी कोंच ही थी..... ये नहीं पता कि सरस ही क्रोंच है या अलग पक्षी है... चलिए आप के बहाने आज मैं भी जान लूँगा...
जय हिंद...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

मेरी जानकारी में तो क्रौंच और सारस एक ही पक्षी है!
इस पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है-
http://charchamanch.blogspot.com/